मां की अनुमति के बिना लड़की ने प्रेमी के साथ किया कोर्ट मैरिज, सच्चाई जानने के बाद सब से मिल रही है सराहना

आज के समय में लव मैरिज करना आम बात हो गयी हे. पहले के जमाने में जहां अरेंज मैरिज को ही तवज्जो दी जाती थी। वहीं आज के समय के लड़के-लड़कियां लव मैरिज करना ही पसंद करते हैं। समय के साथ आजकल के पैरंट्स ने भी इस बात को एक्सेप्ट कर लिया है। परंतु आज भी कई ऐसे किस्से देखने सुनने को मिल जाते हैं जिसमें घर वाले लव मैरिज के खिलाफ होते हैं। यहां तक कि लव मैरिज करने वाले कपल को गलत दृष्टि से आंका जाता है। परंतु आज हम एक ऐसे कपल के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके लव मैरिज करने के बाद उनको सबसे सराहना मिल रही है।

मध्यप्रदेश के नीमच का यह मामला हे. जहाँ के रहने वाले आकाश और भारती ने कोर्ट मैरिज की। शादी करने के लिए आकाश और भारती को बहुत ही संघर्ष करना पड़ा था। दरअसल यह दोनों बांछड़ा समुदाय से संबंध रखते हैं। बांछड़ा समुदाय मध्यप्रदेश के नीमच, मंदसौर और रतलाम जिलों के करीब 68 गांवों में फैला हुआ है। बताया जाता है कि बांछड़ा समुदाय के लोग अपने ही औलाद को वेश्यावृत्ति में धकेल देते हैं।

आकाश को बांछड़ा समुदाय की लड़कियों के साथ हो रहे इस दुर्व्यवहार से बचपन से ही नफरत थी। और इसी नफरत की बदौलत बड़े होने पर आकाश ने लड़कियों को इस दलदल से बचाने का फैसला किया। इसके लिए आकाश ने एक एनजीओ की शुरुआत की जिसका नाम है ‘फ्रीडम गर्ल’। इस एनजीओ की मदद से आकाश ने 60 लड़कियों को इस दलदल से बचाया।

अपनी रेस्क्यू मिशन के दौरान ही आकाश की मुलाकात भारती से हुई। भारती की मां भी उसे वेश्यावृत्ति में धकेला चाहती थी। आकाश ने भारती की मदद करने के उद्देश्य से उसे हॉस्टल में रख दिया। इसी दौरान आकाश और भारती की दोस्ती हो गई और इन दोनों में बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ। जब भारती की मां को इन दोनों के रिश्ते के बारे में पता चला तो उसने पंचायत की मदद से आकाश को भारती से दूर रहने का फैसला सुनाया।

आकाश और भारतीय एक दूसरे से सच्चा प्यार करते थे। अतः आकाश ने भारती के साथ शादी करने का फैसला लिया और कोर्ट मैरिज किया। इनकी शादी के मौके पर नीमच के एसपी मनोज सिंह ने उन्हें आशीर्वाद दिया। साथ ही आकाश और भारती ने बांछड़ा समुदाय के लड़कियों की जिंदगी संवारने की कसम खाई। आकाश और भारती के उठाए गए इस कदम को लोगों से खूब सराहना मिल रही है।

SOURCE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *